ताजा समाचारब्रेकिंग न्यूज

मासूम बच्ची पथरी ले पीड़ित, पिता के पास नइए इलाज बर पइसा

पहिली भी पथरी ले एक पुत्र के हो चुके हे मौत

नगरी । कमार परिवार के नन्हीं बच्ची पथरी ले पीड़ित हे। गरीब मां-बाप के पास इलाज करवाए बर पइसा नइ हे। कबर की मां बाप मन रोजी मजदूरी करके घर ल चलाथे। नगरी ब्लाक के वनांचल ग्राम मसानडबरा म अति पिछड़ी विशेष जनजाति के कमार परिवार के मनखे रहिथे। इहीं म एक परिवार दौलत राम कमार के हे। ओखर 11 बछर के बेटी फलेशवरी कक्षा 6वीं म पढ़त हवय। लइका ल पथरी के रोग हे । रोजी मजदूरी करइया ए परिवार जैसे-तैसे घर के खरचा ल चलाथे। एखर मन के अतका पइा नइए कि बच्ची के इलाज करवा सकय।
दौलत कमार के कहानी ले शासन के कमार जनजाति बर चलात योजना मन के पोल खुलत दिखथ हे। एक ओर ए जनजाति के उत्थान के नाम म कागज म लाखों रुपिया खरच करथ हे, तो जमीन म नानकीन लइका के शासन-प्रशासन इलाज नइ करवा सकय। ओला मदद के गुहार लगाए बर पड़त हे।
संरक्षण के चलत परिवार नियोजन के सुविधा नइ
कमार जनजाति विशेष पिछड़ी जनजाति म सामिल हवय। ए जाति के संरक्षण बर परिवार नियोजन के लभा नइ दे गेहे। जेखर सेती दौलत राम कमार 12 लइका के पिता बन गे हे। एखरे सेती परिवारिक के हालत अब्बड़ कमजोर हवय। शासन ह स्मार्ट कार्ड दे हे। जेमा 5 झन मनखे के इलाज के सुविधा हवय। कार्ड म लइका के नाम नइ हे। फलस्वरूप स्मार्ट कार्ड के लाभ ओला नइ मिल सकय।
पथरी ले एक पुत्र के हो चुके हे मौत
दौलत राम ने बताइस कि 4 साल पहिली ए परिवार के एक लइका के पथरी के बीमारी ले मौत हो चुके हे। ए बालक ह जिला असप्ताल धमतरी म भर्ती रिहिस हे। किंतु पैइसा के कमी अउ स्मार्ट कार्ड म नाम नइ हो ए ले मुफ्त इलाज वइ ह सकीस। फलस्वरूप इलाज के अभाव म दौलत कमार अपन एक पुत्र ल असमय खो र पड़ीस ।
भर पेट खाए बर दाना नइए
राशन कार्ड ले मिलने वाले राशन ले पूरा परिवार के भरण पोषण संभव नइ हो पाय । वन विभाग के लोग मन ह दौलत कमार ल वन सुरक्षा बर चौकीदार के रूप म कार्य पर रखे रहिस हे। किंतु एक बछर पहिलि काम ले निकाल दिस हे। आज परिवार ल भरपेट भोजन भी उपलब्ध नइ हो पवत हे। तो नानकीन लइका के इलाज बर पइसा कइसे हो ही।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close