विशेष

सांसद अभिषेक ह बनाइस सड़क, जे दस गाँव के लोगन बर बनगे जीवनरेखा

दुरगम अउ नक्सल चुनवती ले ग्रसित लिमऊटोला-मलैदा-जुरलाखार सड़क के सपना पूरा होय के करीब

राजनांदगांव। जिला के सबले दुरगम अउ नक्सल चुनवती ले ग्रसित लिमऊटोला-मलैदा-जुरलाखार सड़क के सपना झटकन पूरा होय ल जात हे। अलकरहा विषम भूगोलिक हालत अउ नक्सल चुनवती के नजर ले ये क्षेत्र म सड़क बर एक-एक इंच म काम करना कठिन हे, उहिचे पुलिस अउ अर्धसैनिक बल के जवान मन के सुरक्षा म अउ इंजीनियर मन व मजदूर मन के अलकरहा मेहनत ले 9.40 किमी के काम पूरा कर ले गिस हे। बारसात के दिन म शेष दुनिया ले चार महीना ले कटे रहय्या दस गाँव के लोगन बर ये सड़क जीवनरेखा साबित होवत हे। खैरागढ़ अउ छुईखदान ब्लाक के ये गांव मन ह पहिली कोनो रद्दा नइ रिहिस हे। बइला गाड़ी बर पैसेज रिहिसहे। जेला छत्तीसगढ़ी म लोग मन ह गाड़ा रवान कहिथे। सांसद अभिषेक सिंह ले ये गाँव मन के लोग मन मिलिस तो उमन ल भरोसा दिलाए गिस कि कइसनो भी विषम परिस्थिति हो, ये गाँव मन ल जोड़े के कराय सुरू करे जाही।
ओ बखत के कलेक्टर मुकेश बंसल हआईएपी व बीआरजीएफ मद ले 6.30 करोड़ रुपिया के प्रशासकीय स्वीकृति ये कारय बर दीस। कलेक्टर भीम सिंह ह डीएमएफ ले 4.22 करोड़ रुपिया डामरीकरण (डब्ल्यूएमएम प्लस बीटी) बर दीस। पीएमजीएसवाय के कार्यपालन अभियंता बलवंत पटेल ब बताइन कि बरसात म अउ बचे महीना म घलो ये गाँव मन म पहुँचना बेहद कठिन हे । सड़क बनने ले लोगन के बुनियादी दिक्कत मन दूर हो जाही। पटेल ह बताइन कि कलेक्टर भीम सिंह व एसपी प्रशांत अग्रवाल हर सप्ताह सड़क के प्रगति के जानकारी लेवत हे अउ उंखर मारग दरसन म कारय निरंतर प्रगति म हे।
पहिली दफा भटक गिन इंजीनियर मन
ये अतका दुरगम इलाका हे कि जब पहली बार इंजीनियर मन ये गाँव मन म सर्वे करे बर पहुचिन तो भटक गे। फेर अब्बड़ मशक्कत के बाद उमन लिमऊटोला तक पहुतिन। बरसात म जब नाला अपन उफान म होथे तो जुरलाखार तक पहुँचना कठिन हे। सोधे 9.40 किमी के रद्दा म ही 25 पुल बनाए गेहे। येमा 2 पुल तो 25 मीटर के हे। कतको जगह म घाट कटिंग के मुश्किल कारय करे गेहे।
लगातार बने रहींन चुनवती
निर्माण कारय के दउरान तीन बार मशीन मन ल जलाए गिस। लगातार चुनवती मन बने रिहिन येखर बवजूद पुलिस अउ अर्धसैनिक बल के जवान पूरा मुस्तैदी ले डटे रहिन। आज जब 9.40 किमी के सड़क बन गेहे। अउ ये क्षेत्र के ग्रामीण मन बर गातापार तक पहुँचना आसान होगे हे। तब ये बड़े कारय के महत्व स्पष्ट नजर आवत हे। ये सड़क सैकड़ों लोगन बर जीवन रेखा साबित होवत हे।
बरसों ले मुख्यधारा ले कटे गांव मन ल राहत
सड़क के बनने ले बरसों ले मुख्यधारा ले कटे ग्राम भावे, टूटागढ़, लक्षनाझिरिया, सरपर, लमरा, काशीबहरा अउ नवागांव के ग्रामीण मन ल राहत मिलही। ए बखत पुल-पुलिया अउ जीएसबी स्तर 9.40 किमी के कार्य पूरा कर ले गेहे। शेष लंबाई के कारय अप्रैल 2018 म पूरा करे के लक्ष्य हे। डामरीकरण के कारय जून 2018 म पूरा करे के लक्ष्य हे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close