विशेष

इहां के रसगुल्ला के मांग छत्तीसगढ़ के संग-संग पड़ोसी राज्य मन म हे

हर मिठाई दुकान मन के कढ़ाई म रसगुल्ला मिलही आप मन ल

रायपुर । पखांजूर के रसगुल्ला के नाम जेहन म आवत ही मुंह म पानी आ जाथे। इहां के रसगुल्ला के मांग छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव, दुर्ग, भिलाई, रायपुर के अलावा पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र के गढ़चिरौली, आंध्रप्रदेश अउ ओडिशा के कुछु भाग मन म घलो हवय।
पखांजूर, कापसी, बांदे म रसगुल्ला अउ अलग-अलग वराइटी म के मिठाई मन बनात हे। शादी ब्याह म दूसर जिला के लोग दो ले तीन हजार रसगुल्ला के आर्डर देवत हे। यदि पखांजूर म बड़ अफसर या मंत्री मन दउरा आथे त भोजन या जलपान म रसगुल्ला ना होय त मीनू पूरा नइ होवय।
वइसे छेना ले बने मिठाई मन सेहत बर हानिकारक घलो नइ माने जाय। येखर सेती हर कोनो रसगुल्ला ल खाना पसंद करथे। इहां के हर दुकान मन कढ़ाई म रसगुल्ला बनात हुए रहीथे। महंगाई बढ़ीस हे येकर बावजूद इहां के रसगुल्ल मन के स्वाद नइ बदले हे। छेना ले रसगुल्ला के अलावा चमचम, छेना लड्डू, काचा गोला मिठाई मन घलो इहां मिलत हे। पखांजूर के रसगुल्ला छत्तीसगढ़ समेत कई राज्य मन म फेमस हे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close