Home ताजा समाचार गोदावरी-कावेरी लिंक परियोजना म छत्तीसगढ़ के हित के पूरा ध्यान रखे जाही

गोदावरी-कावेरी लिंक परियोजना म छत्तीसगढ़ के हित के पूरा ध्यान रखे जाही

19
0

रायपुर। छत्तीसगढ़ के जल संसाधन मंत्री  बृजमोहन अग्रवाल ह केन्द्र सरकार ले गोदावरी-कावेरी लिंक परियोजना म छत्तीसगढ़ के हित के पूरा ध्यान रखे के मांग करे हें। उमन आज नई दिल्ली के परिवहन भवन म आयोजित गोदावरी-कावेरी लिंक परियोजना के बैठक म कहिन कि ए परियोजना म छत्तीसगढ़ के अधिकार ल पूरा सुरक्षित रखे जाय। बैठक के अध्यक्षता केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री  नितिन गडकरी ह करिन। बैठक म छत्तीसगढ़ के जल संसाधन विभाग के सचिव  सोनमणि बोरा अऊ विभाग के आन वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहिन।
श्री अग्रवाल ह कहिन कि ए परियोजना के तहत बस्तर क्षेत्र म अइसन जलसंरचना निर्मित करे जाय जेखर से बस्तर के स्थानीय मनखे मन ल घलोक लाभ मिलय, काबर कि ये मां छत्तीसगढ़ के इंद्रावती नदी के पानी घलोक जात हे जेखर सेती ए परियोजना म हमर पूरा अधिकार बनथे। केन्द्रीय मंत्री श्री गडकरी ह श्री अग्रवाल ल आश्वस्त करत कहिन कि परियोजना निर्माण म छत्तीसगढ़ के हित के पूरा ध्यान रखे जाही। छत्तीसगढ़ के अधिकार ओखर पानी म घलोक बने रहिही। केन्द्रीय मंत्री ह छत्तीसगढ़ म सिंचाई क्षमता ल बढाए के दिशा म राज्य शासन कोति ले होत उदीम के सराहना करिन। उमन कहिन कि छत्तीसगढ़ ह सिंचाई क्षमता बढाए के दिशा म अनुकरणीय काम करे हे। आन राज्य मन ल घलोक छत्तीसगढ के जइसे सिंचाई क्षमता बढ़ाय के दिशा म काम करना चाहिये।
जल संसाधन मंत्री श्री अग्रवाल ह बैठक म पोलावरम सिंचाई परियोजना के गोठ करत कहिन कि कहूं तेलगांना म ए परियोजना म कोनो जल संरचना के निर्माण करे जात हे त उही प्रकार छत्तीसगढ़ म घलोक इहां के हित मन के ध्यान रखत जल संरचना निर्मित करे जाय ताकि छत्तीसगढ़ के मनखे मन ल परियोजना के पूरा लाभ मिल सकय। केन्द्रीय मंत्री ह छत्तीसगढ़ ले जुडे़ कई ठन विषय मन ल गंभीरता ले लेत कहिन कि छत्तीसगढ़ के हित के पूरा ध्यान रखे जाही।
बैठक म जल संसाधन विभाग के सचिव  सोनमणि बोरा ह बताइस कि छत्तीसगढ़ म जल संरक्षण अउ संवर्धन के दिशा म उल्लेखनीय पहल करे गए हे। सिंचाई योजना मन के रूपांकित क्षमता के जइसे सिंचाई सुविधा विकसित करे बर ए योजना मन के सर्वेक्षण के काम शुरू हो गए हे। सर्वेक्षण के समय जियो टैगिंग, ग्रेडिंग, फोटोग्राफी करे जात हे। ए सिंचाई योजना मन म क्षमता के मुताबिक पानी के संग्रहण करे बर जरूरी मरम्मत अऊ सुधार काम करे जाही। अभी हाल म तीन हजार ले जादा छोटे सिंचाई जलाशय मन म जरूरत के मुताबिक छोटे-छोटे मरम्मत करे के कार्य योजना तैयार करे गए हे। सिंचाई जलाशय मन के रूपांकित सिंचाई अऊ सही सिंचाई के बीच के अंतर ल दूर करे बर कार्रवाई करे जाही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.